BREAKING NEWS

image caption:

तेज रफ्तार डस्टर की स्कूटी से हुई टक्कर, 4 साल की बच्ची की मोके पर मौत

Date : 2018-12-03 02:26:00 PM

लुधियाना-(03-12-2018)-लुधियाना-मालेरकोटला रोड पर जीके रिजॉर्ट के पास ओवरस्पीड डस्टर सवार बैंक मुलाजिम ने पहले बाइक सवार को टक्कर मारी। फिर गुरुद्वारे में माथा टेक एक्टिवा से घर जा रही मां-बेटी को पीछे से टक्कर मार दी। एक्टिवा सड़क की साइड पर करीब दो फीट दूर एक दीवार में जा टकराई। मां-बेटी का सर दीवार में जा लगा और बच्ची की मौके पर मौत हो गई। 4 साल की इस बच्ची का 5 दिसंबर को बर्थ-डे था। इससे ठीक पहले खुशी मातम में बदल गई। महिला नाजुक हालत में सीएमसी में भर्ती है।महिला नरिंदर कौर की करीब आठ साल पहले न्यू गुरु तेग बहादुर नगर के अमरीक सिंह से शादी हुई थी। परिवार सात साल से स्पेन में सेटल है। हरगुन उनकी इकलौती बेटी थी। वह दुगरी के ग्रीनलैंड स्कूल में नर्सरी क्लास में पढ़ती थी। नरिंदर के भांजे अमन ने बताया कि 5 दिसंबर को हरगुन का बर्थ-डे था। उसके पिता अमरीक सिंह स्पेन से उसके लिए बर्थ-डे गिफ्ट भी भेजते थे। हरगुन खुद केक भी पसंद करके आई थी। बचपन में माता-पिता की मौत के बाद से ही अमन अपने मामा अमरीक सिंह के यहां ही रहता है। उसने बताया कि मामी नरिंदर और बेटी हरगुन स्पेन जाने वाली थीं।बताया जाता है कि घटना के बाद कार ड्राइवर ने भागने की कोशिश की। लेकिन वहीं एक मैरिज पैलेस में शादी में आए लोगों ने उसे पकड़ लिया। वह लोगों से झगड़ने लगा। तभी उसके जानकार भी मौके पर आ गए। लोगों ने ड्राइवर और उसके साथियों की जमकर पिटाई की। लोगों के मुताबिक ड्राइवर नशे में था और उसने रिवॉल्वर से धमकाया भी। 


सूचना के आधे घंटे बाद पीसीआर पहुंची। उन्होंने जख्मी महिला को अस्पताल ले जाने की बजाय आरोपी को बाइक पर बिठा कर चौकी ले गए। जबकि जख्मी महिला सवा घंटे तक तड़पती रही। 4 साल की बच्ची हरगुन कौर की लाश भी वहीं पड़ी रही। बाद में एक राहगीर ने महिला नरिंदर कौर (28) को सीएमसी पहुंचाया।घटनास्थल पर मौजूद पीड़ित परिवार और उनके रिश्तेदारों से पुलिस अफसरों ने आरोपी के भाग जाने की बात कही, लेकिन पीसीआर मुलाजिमों द्वारा आरोपी को मौके से लेकर जाने की वीडियो वायरल हो गया। जैसे परिवार को पता चला कि आरोपी पीसीआर मुलाजिमों के कब्जे में और कार्रवाई नहीं कर रही है तो उन्होंने दोनों तरफ से हाईवे जाम कर दिया। करीब तीन घंटे बाद अफसरों ने आरोपी पकड़कर चौकी मराड़ों केस दर्ज करने की बात कही तो प्रदर्शनकारी शांत हुए। जाम से लुधियाना से मालेरकोटला आने-जाने वाले लोग फंस गए। इस दौरान दो एम्बुलेंस भी फंसी, लेकिन बाद में उन्हें जाने दिया।हरगुन के दादा बूटा सिंह 85 साल के हैं। उसकी दादी बेड पर हैं। एक राहगीर ने नरिंदर के मोबाइल से उसके घर पर फोन करके सूचित किया। सभी घर से मौके पर निकल गए। दुखद खबर सुन दादा साइकिल लेकर 10 किमी दूर अपनी पोती को देखने पहुंच गए। लेकिन लाश देख वह बेसुध हो गए।