image caption:

पंजाब कैबिनेट की बैठक में उठेगी सिद्धू के इस्तीफे की मांग

Date : 2018-12-03 12:57:00 PM

चंडीगढ़-(03-12-2018)-पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू की जंग तेज होती दिख रही है। आज पंजाब कैबिनेट की अहम बैठक 3 बजे होने वाली है जो पंजाब के मुख्यमंत्री आवास पर रखी गई है।  सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक विवादों से घिरे पंजाब के मंत्री सिद्धू आज की बैठक में शामिल नहीं होंगे। कैप्टन पर दिए बयान के बाद से नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ उनके ही साथी मंत्री विरोध में खड़े हो गए हैं। सूत्रों की माने तो 3 मंत्रियों ने सिद्धू के इस्तीफे की मांग की है, साथ ही आज होने वाली बैठक में कैबिनेट के 10 मंत्री सिद्धू का इस्तीफा मांग सकते हैं।पंजाब कांग्रेस में खुलकर नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ विद्रोह शुरू हो गया है। पंजाब में कांग्रेस के कई नेताओं ने कैप्टन के समर्थन में पोस्टर तैयार किए हैं, जो पंजाब के तमाम जिलों में लगाए जाएंगे। इस पोस्टर में लिखा है, "पंजाब दा कैप्टन....साड्डा कैप्टन"। फिलहाल सोशल मीडिया पर कैंपेन शुरू किया गया। कैप्टन के खिलाफ बोलने पर पंजाब कांग्रेस में नवजोत सिंह सिद्धू अलग-थलग पड़ गए हैं।पंजाब कैबिनेट की बैठक सोमवार दोपहर 3 बजे सीएम रेजिडेंस में होगी। दरअसल कैप्टन अमरिंदर सिंह की तबीयत की वजह से ये कैबिनेट मीटिंग पंजाब सीएम हाउस में रखी गई है।


 इस मीटिंग में माना जा रहा है कि पंजाब कैबिनेट के 10 के करीब मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के "कौन है कैप्टन" बयान को लेकर कड़ी आपत्ति कैप्टन अमरिंदर सिंह के सामने दर्ज करवाएंगे और नवजोत सिंह सिद्धू से इस्तीफा लेने या फिर उन्हें कैबिनेट से हटाए जाने की मांग की जाएगी। हालांकि सिद्धू के करीबी कुछ मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को कैप्टन से माफी दिलवाने की दलील देकर इस मुद्दे को खत्म करवाने की कोशिश भी कर सकते हैं, लेकिन ऐसे मंत्रियों की संख्या 1-2 से ज्यादा नहीं है। वैसे तो इस कैबिनेट मीटिंग के एजेंडे कुछ और है, लेकिन नवजोत सिंह सिद्धू का मुद्दा भी मीटिंग में छाया रहेगा।पंजाब के पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर विजय इंदर सिंगला ने सिद्धू के "कौन है कैप्टन" के बयान पर आपत्ति दर्ज करवाते हुए कहा है कि सूबे में पंजाब सरकार के मुखिया और कांग्रेस के मुखिया कैप्टन अमरिंदर सिंह ही है और नवजोत सिंह सिद्धू के बयान से ना सिर्फ कांग्रेस कार्यकर्ताओं को बल्कि पंजाब के लोगों को भी निराशा हुई है, क्योंकि पंजाब के लोगों ने कैप्टन अमरिंदर सिंह की अगुवाई में कांग्रेस को बहुमत दिया च पंजाब में कांग्रेस की सरकार बनवाई है। सिंगला ने कहा कि पंजाब में हमारे लीडर कैप्टन अमरिंदर सिंह है और पूरे देश में कांग्रेस की कमान युवा नेता राहुल गांधी के हाथ में है, ऐसे में नवजोत सिंह सिद्धू को अपने बयान पर खेद जताना चाहिए। कैप्टन अमरिंदर सिंह जिन्हें वो कई बार पब्लिक मंच से अपने पिता समान बता चुके हैं, उन कैप्टन अमरिंदर सिंह से बिना शर्त तुरंत ही अपने बयान को लेकर माफी मांग लेनी चाहिए। नवजोत सिंह सिद्धू को याद रखना चाहिए कि वो प्रदेश के एक मंत्री हैं और कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार के और कांग्रेस के पंजाब के लीडर हैं।