BREAKING NEWS

image caption:

32 खड्डों के प्राथमिक ऑडिट में सामने आया 280 करोड़ का घपला

Date : 2018-11-28 12:16:00 PM

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पंजाब में सतलुज और ब्यास दरिया के किनारे जिन 32 खड्डों के माइनिंग के ठेके रद किए थे, उनके प्रारंभिक ऑडिट में करीब 280 करोड़ का घपला सामने आया है। इनमें केवल रोपड़ की 13 खड्डों में सबसे ज्यादा 230 करोड़ के घपले की बात सामने आई है।फाइनेंस विभाग के विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार पंजाब में माइनिंग के लिए करीब एक हजार से ज्यादा खड्डों की नीलामी की गई थी। इस ऑडिट के बाद आशंका जताई जा रही है कि अगर सभी खड्डों की जांच कराई जाए तो यह घपला 2000 करोड़ से ज्यादा हो सकता है।फाइनेंस डिपार्टमेंट द्वारा किए गए ऑडिट में रोपड़ की खड्डों में कुल 230 करोड़ के घपले की बात कही जा रही है। रोपड़ के अलावा पठानकोट व गुरुदासपुर की खड्डों में करीब 2.5 करोड़, होशियारपुर की खड्डों में 55 लाख, नवांशहर में 33.50 लाख की गड़बड़ी की बात कही गई है। इसमें 157 करोड़ का सबसे बड़ा घपला रोपड़ के शर्महरा खड्ड में सामने आया है। जिसके बारे में रोपड़ की तत्कालीन डीसी गुरनीत तेज ने लिखित में दिया था कि एक लाख टन रेत खनन का ठेका दिया गया था, जबकि जांच में इस खड्डे से ठेकेदार ने 90 लाख टन से ज्यादा का खनन किया गया है।इस रिपोर्ट से सरकार में हड़कंप मच गया और बाद में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने जून महीने में खुद हैलीकॉप्टर से नवांशहर में अवैध माइनिंग का खेल देखा। मुख्यमंत्री द्वारा डीसी नवांशहर को 24 घंटे में अवैध माइनिंग करने वालों को गिरफ्तार करने के निर्देश देने के अलावा सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर इसी साल जनवरी में रद्द की गईं सभी 32 खड्डों के ऑडिट के आदेश फाइनेंस डिपार्टमेंट को दिए थे।