image caption:

भीम आर्मी के मुखिया का बड़ा बयान, कहा-मायावती को सौंपी जाए विपक्षी गठबंधन की कमान

Date : 2018-11-27 05:07:00 PM

 नई दिल्ली-(27-11-2018)-भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर ने बीएसपी सुप्रीमो मायावती को लेकर बड़ा बयान दिया है। भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर ने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव बीजेपी के खिलाफ विपक्ष के गठबंधन की कमान बीएसपी अध्यक्ष मायावती को सौंपी जानी जाहिए। चंद्रशेखर ने कहा की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव को एसपी और बीएसपी ने मिलकर लड़ा और वहां बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा। साथ ही उन्होंने कहा कि उनकी कोशिश होगी कि इस गठबंधन में राष्ट्रीय लोक दल तथा कुछ अन्य पार्टियां भी शामिल करने की भी है। उन्होंने कहा कि भीम आर्मी आगामी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेगी और और आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा की पराजय सुनिश्चित करने के लिए पूरा दम लगाएगी।इस सवाल पर कि वह मायावती को कमान सौंपने की बात कर रहे हैं जबकि बीएसपी प्रमुख उन्हें बीजेपी का एजेंट बताती हैं, तो चंद्रशेखर ने कहा कि बीएसपी हमारा घर है और घर में कुछ गलतफहमियां तो होती रहती हैं।


 आपको बात दें कि शनिवार को बीएसपी प्रमुख मायावती ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर को बीजेपी का ऐजेंट करार दिया था। मायावती ने कहा था कि भीम आर्मी और बहुजन यूथ फॉर मिशन 2019 जैसे संगठन विपक्ष के इशारों पर भोले-भाले लोगों को बहकाने का काम कर रहे हैं। ऐसे संगठन बीएसपी के बढ़ते कदम में रोड़ा हैं। उन्होंने कहा कि बसपा को मालूम चला है कि ऐसे संगठन हमारे विपक्ष द्वारा पर्दे के पीछे से चलाए जा रहे हैं। जो लोग भी बीएसपी विरोधी संगठनों को चला रहे हैं वह दलित कालोनियों में रहने वाले हमारे भोले- भाले लोगों को बता रहे हैं कि वह मायावती को प्रधानमंत्री बनाएंगे।अयोध्या से लौट कर आए चंद्रशेखर ने वहां जाने के कारण के बारे में पूछे जाने पर कहा कि उन्हें जानकारी मिली थी कि अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद की धर्म सभा और शिवसेना के कार्यक्रम के कारण लोग डरे हुए हैं। चंद्रशेखर ने अयोध्या के जिला प्रशासन के अधिकारियों से मुलाकात की और उन्हें ज्ञापन सौंपा। वहीं मंदिर निर्माण को लेकर शिवसेना की अयोध्या में अचानक बढ़ी गतिविधियों के बारे में पूछे जाने पर भीम आर्मी प्रमुख ने कहा कि यह सब हथकंडा है। आपको बता दें कि रविवार को वीएचपी ने राम मंदिर के मुद्दे पर अयोध्या में धर्मसभा आयोजित की थी।