image caption:

रायबरेली जेल शराब कांड मामले में योगी सरकार की बड़ी कार्रवाई, 6 अधिकारी सस्पेंड

Date : 2018-11-26 06:04:00 PM

नई दिल्ली-(26-11-2018)-रायबरेली जेल में शराब कांड मामले में योगी सरकार ने कार्रवाई की है। योगी सरकार ने इस मामले में वरिष्ठ जेल अधीक्षक समेत 6 लोगों को निलंबित कर दिया है साथ ही विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए हैं। आपको बता दें कि पिछले दिनों रायबरेली के जिला जेल में नियम-कानून को धता बताते हुए असलहा-कारतूस के बीच शराब पार्टी करते अपराधियों का एक वीडियो सामने आया था। इस मामले में कल रात डीएम संजय खत्री और एसपी सुजाता सिंह ने जेल में छापा मारा। तमाम प्रतिबंधित वस्तुएं बरामद हुई हैं। शहर कोतवाली में चार अपराधियों के खिलाफ केस दर्ज हुआ है। वीडियो के सामने आने के बाद फजीहत से बचने के लिए जेल प्रशासन ने तीन दिन पहले ही अपराधियों का गैर जिला ट्रांसफर कर दिया।एडीजी जेल चंद्र प्रकाश ने इस मामले में डीआईजी उमेश श्रीवास्तव को जांच सौंपी है। उन्हें मुख्यालय से रायबरेली भेजा गया है। वहीं, एडीजी ने वरिष्ठ अधीक्षक प्रमोद कुमार शुक्ल, कारापाल गोविंद राम वर्मा, उप कारापाल रामचंद्र तिवारी, हेड जेल वार्डर लालता प्रसाद उपाध्याय, जेल वार्डर शिवमंगल सिंह व गंगाराम को निलंबित कर दिया गया है। इन सभी के खिलाफ जांच शुरू हो गई है। 


रायबरेली जिला जेल में कैदियों द्वारा कथित रूप से शराब मंगवाने, जेलर को रिश्वत देने की बात कहने और किसी को धमकी देने का वीडियो वायरल होने के बाद वरिष्ठ कारागार अधीक्षक समेत छह अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। साथ-साथ उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी गई है।गृह विभाग के सूत्रों ने  बताया कि रायबरेली जिला जेल के अंदर कैदियों द्वारा किसी को फोन करके शराब मंगवाने, किसी को धमकी देने और जेलर को रिश्वत देने की बात करने का वीडियो वायरल होने के मामले में जिला कारागार के वरिष्ठ अधीक्षक प्रमोद कुमार शुक्ल, कारापाल गोविन्द राम वर्मा, उप कारापाल रामचन्द्र तिवारी, मुख्य जेल वार्डन लालता प्रसाद उपाध्याय, जेल वार्डन गंगाराम और शिवमंगल सिंह को निलम्बित करते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी गयी है। वायरल वीडियो में दिखायी दे रहे चार बंदी अपराधियों के खिलाफ सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज करके उन्हें अन्य कारागारों में स्थानान्तरित कर दिया गया है।जानकारी के मुताबिक बीते 21 नवंबर को जेल में ली गयी सघन तलाशी के दौरान चार मोबाइल फोन सेट और एक सिमकार्ड बरामद किये जाने का मामला भी उसी मुकदमे में शामिल कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि शासन के निर्देश पर रविवार को जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक द्वारा एक बार फिर जेल में तलाशी लिये जाने पर सिगरेट, लाइटर, माचिस, मिठाइयां तथा मेवे आदि खाद्य पदार्थ बरामद हुए थे। इस पूरे प्रकरण में लापरवाही बरतने के आरोप में वरिष्ठ जेल अधीक्षक समेत छह अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की गयी है।