image caption:

राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी संगठन जालंधर और पंजाब सिविल मैन एम्पलाइज वेलफेयर यूनियन ने ठेकेदारी प्रथा का किया विरोध

Date : 2018-11-22 02:58:00 PM

जालंधर-(रवि गिल,सुशिल हंस)-आज राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी संगठन जालंधर पंजाब और पंजाब सिविल मैन एम्पलाइज वेलफेयर यूनियन के प्रधान पवन बाबा जी की अध्यक्षता में एक मीटिंग हुई जिसका कड़े शब्दों में ठेकेदारी प्रथा का विरोध करते हुए श्री पवन बाबा जी ने सीवरमैन और सफाई कर्मचारियों से ठेकेदारी प्रथा के काम को सिरे से नकार दिया है अगर जालंधर नगर निगम हाउस ने जबरदस्ती ठेकेदारी प्रथा लाने की कोशिश की तो सभी यूनियन मिलकर इसका कड़ा विरोध करेंगे और बिना नोटिस जारी किए पूरा का पूरा सफाई सिस्टम और सीवरेज सिस्टम बंद कर हड़ताल पर जाने की संभावना बन सकती है इसका जिम्मेदार सिर्फ और सिर्फ नगर निगम जालंधर का मेयर और 80 काउंसलर ही होंगे क्योंकि क्योंकि पंजाब सरकार ने चुनाव के समय अपने मेनिफेस्टो में यह वादा किया था कि अगर इस बार पंजाब में कांग्रेस की सरकार आती है तो कम से कम सफाई कर्मचारी सीवरेज कर्मचारी और दूसरे दर्जा चार कर्मचारियों पर किसी भी तरह की ठेकेदारी प्रथा बिल्कुल लागू नहीं की जाएगी 


लेकिन आज ऐसा महसूस हो रहा है कि मेयर साहब अपने किसी चहेते को फाइनेंस करना और राजनीतिक लाभ देने की मंशा से ही ठेकेदारी प्रथा लागू करना चाहते हैं जबकि जबकि निगम हाउस में ऑलरेडी 535 सफाई कर्मचारियों का बैकलॉग खाली पड़ा हुआ है और जिनके लिए किसी भी प्रकार की कोई मंजूरी लेने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह बैकलॉग रिटायरमेंट की पोस्टों से खाली हुआ हुआ इसीलिए यूनियन की मांग है कि सबसे पहले सबसे पहले नए बने वार्डों में  तकरीबन 1000 सफाई कर्मचारियों की रेगुलर भर्ती की जाए अगर रेगुलर भर्ती करने में सरकार असमर्थ है तो सीटों की डेट पर भर्ती किए जाएं कर्मचारी सफाई कर्मचारी भर्ती किए जाए उसके बाद में जो नए वार्ड बने हैं उनके लिए अगर सरकार पक्का नहीं कर सकती तो सीवरेज और कर्मचारी और सफाई कर्मचारियों को सीधा डीसी रेट पर भर्ती किया जाए इस मौके पर राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी संगठन के प्रधान श्री कल्याण जी नगर निगम सुपरवाइजर यूनियन के प्रधान श्री गोपाल खोसला जी जनरल सेक्टरी माही लाल जी अशोक वाल्मीकि जी राकेश सोनी जी और तमाम यूनियन के गणमान्य साथी मौजूद और यूनियन के सरपरस्त ओम प्रकाश मिश्रा जी अपने साथियों सहित मौजूद रहे