BREAKING NEWS

image caption:

ब्लास्ट के लिए पंजाब में ही बनाए गए थे हथगोले

Date : 2018-11-13 01:57:00 PM

जालंधर-(रवि गिल,सुशिल हंस)-कश्मीरी आतंकी संगठन अंसार गजवत-उल-ङ्क्षहद की योजना पूरा मकसूदां थाना उड़ाने की थी। इसी नीति के तहत ही थाने पर 4 हथगोले दागे गए थे, मगर हथगोले लो इंटेसिटी के होने के कारण थाने को कुछ नुक्सान नहीं हो सका। यह हथगोले पंजाब में ही बनाए गए थे और संगठन के सरगना जाकिर मूसा ने इंजीनियरिंग कालेज के स्टूडैंट को ही हथगोले बनाने की आधी-अधूरी ट्रेङ्क्षनग दिलवाई थी। मकसूदां थाना ब्लास्ट करने के लिए इस स्टूडैंट को हाई इंटेसिटी हथगोला बनाने का आदेश हुआ था, मगर पूरी तरह ट्रेंड न होने के कारण उसने लो इंटेसिटी हथगोला तैयार कर दिया था जिसके कारण अपने मकसद में यह संगठन कामयाब नहीं हो सका। गौर हो कि 14 सितम्बर की रात को अंसार गजवत-उल-हिंद संगठन के 4 आतंकियों ने मकसूदां थाने पर हथगोलों से हमला किया था।


 चारों आतंकियों ने 4 हथगोले थाने के अंदर फैंके थे, क्योंकि हथगोले लो इंटेसिटी थे तो इसका धमाका भी ज्यादा नहीं हुआ। यही कारण था कि थाना स्तर पर पुलिस को भी यह समझने में काफी समय लग गया था कि यह आतंकी हमला है। हमला करने वाले इंजीनियरिंग कालेज के 2 स्टूडैंट्स शाहिद कयूम व फैजल बशीर थे, जबकि 2 आतंकी रऊफ और गाजी श्रीनगर से विमान के जरिए इस हमले को अंजाम देने आए थे। हमला करने के बाद रऊफ व गाजी उसी रात जालंधर बस अड्डे से जे. एंड.के. के लिए फरार हो गए थे। विशेष इनपुट के बाद पुलिस ने 3 व 4 नवंबर को इंजीनियरिंग कालेज के दोनों स्टूडैंट्स शाहिद कयूम व फैजल बशीर को गिरफ्तार कर लिया था, जबकि इस हमले को अंजाम देने वाले 2 कुख्यात आतंकी रऊफ व गाजी अभी भी फरार हैं।