BREAKING NEWS

image caption:

आधुनिक समय में मिट्टी के दीये की जगह ले रही है रंग-बिरंगी लाइटों

Date : 2018-11-05 06:11:00 PM

दीवाली पर सभी अपने घर को खूबसूरत बनाने के लिए तरह-तरह की सजावट करते हैं। रोशनी के लिए दीये जलाते हैं। इस आधुनिक समय में मिट्टी के दीये की जगह रंग-बिरंगी लाइटों ने ले ली है। एक समय था जब मिट्टी के दीये अपनी रोशनी से लोगों के चेहरों पर खुशी के साथ-साथ कई लोगों के रोजगार का साधन भी बनते थे, लेकिन अब इसकी जगह चाइना मेड सस्ती लड़ियों ने ले ली हैं। दीये बनाने वाले कारीगर बेरोजगार हो गए हैं। मिट्टी के दीये बनाने की कला भी आलोप हो रही है।मिट्टी के बर्तन बनाने वाले कारीगर हरि राम का कहना है कि यह काम अब घाटे का सौदा रह गया है। उन्होंने कहा कि वह अपने पुश्तैनी काम में बच्चों को नहीं लगाना चाहते क्योंकि इस काम में मेहनत ज्यादा है और बचत नाममात्र है। इससे घर का खर्च चलाना मुश्किल हो गया है। मिट्टी के बर्तन बनाने के लिए उन्हें लड़कियों का इंतजाम भी करना होता है, जिससे उनके काफी पैसे खर्च हो जाते हैं।आधुनिकता के इस युग में हमारा समाज व नौजवान पीढ़ी दूर होती जा रही है और इस तेज ¨जदगी में अपने पुरातन विरसे को भूलती जा रही है। आने वाले समय में ये मिट्टी के दीये सिर्फ तस्वीरों में ही नजर आएंगे। पहले मिट्टी के बर्तन बनाने वाले आसानी के साथ हर गांव में मिल जाया करते हैं, लेकिन अब वह भी मुश्किल से ही मिलते हैं।