BREAKING NEWS

image caption:

उत्तर कोरिया ने दी डोनाल्ड ट्रंप को धमकी

Date : 2018-11-05 01:28:00 PM

नई दिल्ली-(05-11-2018)-उत्तर कोरिया ने अमेरिका पर तीखा हमला बोला है। महीनों से परमाणु बम निरस्त्रीकरण का दावा कर रहे उत्तर कोरिया ने अमेरिका को चेतवानी देते हुए कहा है कि अगर उसने कड़े आर्थिक प्रतिबंध नहीं हटाए तो देश अपनी पुरानी परमाणु नीति यानी परमाणु हथियार बनाने की तरफ लौट जाएगा। बता दें कि सालों तक उत्तर कोरिया ने अर्थव्यवस्था के साथ परमाणु क्षमता बढ़ाने की नीति (युनजिन नीति) पर काम किया है।इस साल अप्रैल में शांति की वकालत करते हुए उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग-उन ने ऐलान किया था कि उनके देश की परमाणु जरूरतें पूरी हो गई हैं। किम ने कहा था कि अब देश सोशलिस्ट इकॉनमी के निर्माण पर काम करेगा। हालांकि विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी ताजा बयान में कहा गया है कि अगर अमेरिका ने प्रतिबंधों पर अपना रवैया नहीं बदला तो प्योंगयांग पुरानी नीतियों की तरफ लौट सकता है।इस साल जून में सिंगापुर में अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप और उत्तर कोरिया के प्रमुख किम जोंग-उन के बीच ऐतिहासिक मुलाकात हुई थी। 



उस दौरान उत्तर कोरिया ने पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण की बात कही थी। इसके बाद कोरियाई प्रायद्वीप के तनाव के सुलझने और हथियारों की होड़ पर लगाम लगने की आस बंधी थी। हालांकि तबसे लेकर आजतक इस मामले में कोई खास प्रगति नहीं हुई।उधर, अमेरिका ने उत्तर कोरिया पर अपने प्रतिबंध जारी रखे हैं। अमेरिका का कहना है कि जबतक उत्तर कोरिया पूर्ण रूप से निरस्त्रीकरण नहीं कर लेता और इसकी पुष्टि नहीं हो जाती, प्रतिबंध जारी रहेंगे। उत्तर कोरिया अमेरिका के इस स्टैंड को 'गैंगस्टर' जैसा बताता रहा है। उत्तर कोरिया ने अपने बयान में कहा है कि संबंधों में बेहतरी और प्रतिबंध एक साथ नहीं चल सकते।पिछले महीने उत्तर कोरिया की स्टेट मीडिया ने अमेरिका पर डबल गेम खेलने का आरोप लगाया था। आर्थिक प्रतिबंधों को लेकर ट्रंप की आलोचना की गई थी। हालांकि अमेरिका अपने रुख पर कायम नजर आ रहा है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने फॉक्स न्यूज को दिए एक हालिया इंटरव्यू में कहा है कि जबतक उत्तर कोरिया निरस्त्रीकरण की अपनी प्रतिबद्धता को पूरा नहीं कर देता प्रतिबंध जारी रहेंगे।