BREAKING NEWS

image caption:

समंदर में 600 मील प्रति घंटे की रफ्तार से टकराया इंडोनेशिया का प्लेन

Date : 2018-11-05 11:58:00 AM

इंडोनेशिया के लॉयन एयर विमान हादसे में एक नई जानकारी सामने आई है। विशेषज्ञों का कहना है कि पिछले सोमवार को क्रैश हुआ प्लेन समंदर में 600 मील प्रति घंटे (करीब 1,000 किमी/घंटे) की रफ्तार से टकराया हो सकता है। फ्लाइट-ट्रैकिंग डेटा के आधार पर कैलकुलेशन करने वाले तीन विशेषज्ञों ने यह दावा किया है। आपको बता दें कि इस विमान दुर्घटना में सभी 189 लोगों की मौत हो गई थी। इस बीच, हादसे में मारे गए लोगों के शवों और मलबे की तलाश कर रहे एक इंडोनेशियाई गोताखोर की भी मौत हो गई।रिपोर्ट के मुताबिक फ्लाइट-ट्रैकिंग कंपनी फ्लाइटरेडार24 द्वारा उपलब्ध कराए गए डेटा का विश्लेषण करने पर पता चला है कि बोइंग कंपनी का यह प्लेन 45 डिग्री नीचे की तरफ झुकते हुए गिरा था। हालांकि प्लेन की स्पीड कितनी थी, इस बात की पुष्टि उसके फ्लाइट-डेटा रिकॉर्डर से होगी। हाल ही में इसे बरामद किया गया है और अभी विश्लेषण पूरा नहीं हुआ है।   


फिलहाल इंडोनेशिया के अधिकारियों ने एयरक्राफ्ट के ट्रैक या स्पीड के बारे में कोई डीटेल नहीं दी है। जकार्ता से उड़ान भरने के कुछ मिनट बाद ही प्लेन दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। फ्लाइटरेडार24 के डेटा के अनुसार जावा सी में टकराने से पहले प्लेन की रफ्तार 630 मील प्रति घंटे यानी 1,014 किमी प्रति घंटे की रफ्तार थी। जानकारों का कहना है कि मलबे के छोटे टुकड़ों से भी अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्लेन की रफ्तार कितनी ज्यादा रही होगी। इंडोनेशिया की जांच एजेंसी को बोइंग कंपनी के साथ अमेरिकी फेडरल एविएशन प्रशासन का भी सहयोग मिल रहा है।वहीं, अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि सायचरुल एंटो (48) उस टीम का हिस्सा थे जो जावा समुद्र में शवों और मलबे की तलाश कर रही थी। उनकी शुक्रवार को मौत हो गई। माना जा रहा है कि कम दबाव के चलते उनकी मौत हो गई। राष्ट्रीय बचाव एवं राहत एजेंसी के प्रमुख मोहम्मद सायुगी ने कहा, ‘टीम ने उन्हें बेहोश पाया। होश आने के बाद हमारे चिकित्सकों ने उनका इलाज किया लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका।’