BREAKING NEWS

image caption:

पुलिस ने बिना ठोस सबूत चिता पर से पोस्टमार्टम के लिए उठाया शव

Date : 2018-11-02 05:29:00 PM

जयपुर में एक ऐसा वाकया सामने आया जिसे जानकर आप भी चौंक जायेंगे। पुलिस के काम करने के तरीके से आप हैरान रह जाएंगे। मामला एक व्यक्ति की मौत से जुड़ा है। पूरा मामला जयपुर के महेश नगर इलाके का है। जहां नितिन आनंद नाम के व्यक्ति की मौत हो गई। परिवारवालों के मुताबिक वो शराब पीने का आदी था और साइलेंट अटैक के चलते उसकी मौत हो गई। जिसके बाद परिजन शव को लेकर मोक्ष धाम में अंतिम संस्कार करने पहुंचे। रस्में निभाने के दौरान अचानक पुलिस वहां पहुंची और शव का अंतिम संस्कार ये कहते हुए रुकवा दिया कि कंट्रोल रूम में किसी ने फोन कर जानकारी दी है कि नितिन ने जहर खाकर खुदकुशी की है।  लिहाजा शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद ही आगे कुछ होगा। परिवारवाले लिखित में ये देने को तैयार थे कि ऐसा कुछ नहीं हुआ है। जिसने फोन किया है उसे सामने लाया जाये, लेकिन पुलिस ने उनकी एक नहीं सुनी  और श्मसान से शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया।


पुलिस के इस रवैये से लोग हैरान परेशान हो गये। पुलिस एक ऐसे फोन कॉल पर भरोसा कर रही थी। जिसके बारे में उसे खुद ये पता नहीं था कि वो किसने किया। पुलिस के मुताबिक कॉल आने के बाद उस नंबर पर जब संपर्क करने की कोशिश की गई तो नंबर बंद रहने की जानकारी मिल रही थी।लोग इस बात को लेकर खफा थे कि पुलिस एक अंजान कॉल पर भरोसा कर रही थी, लेकिन परिवारवालों की बातों पर नहीं। बहरहाल पोस्टमार्टम के बाद शव अंतिम संस्कार के लिए परिवारवालों को सौंप दिया गया। लेकिन पुलिस उस व्यक्ति का अब तक पता नहीं लगा पाई है जिसने कंट्रोल रूम में सुसाइड की सूचना दी थी। ऐसे में लोग पुलिस पर इस बात को लेकर सवाल उठा रहे हैं कि आखिर बिना ठोस सबूत के उसने चिता पर से शव को क्यों उठवाया। वो इसे मृतक और उनके परिजनों के सम्मान के साथ पुलिस का खिलवाड़ करार दे रहे हैं।