BREAKING NEWS

image caption:

5 लाख या उससे अधिक राशि की रजिस्ट्री करवाते समय संंबंधित पैन कार्ड नंबर लिखना है अनिवार्य

Date : 2018-11-02 01:41:00 PM

 जालंधर-(जीवेश शेर गिल,रवि गिल)-अगर आपका मकान या प्लाट लाल लकीर के अंदर आता है और आप उसकी रजिस्ट्री करवाना चाहते हैं, तो इस बात को सुनिश्चित कर लें कि सरकार की हिदायतों के अनुसार 5 लाख या उससे अधिक राशि की रजिस्ट्री करवाते समय संंबंधित पैन कार्ड नंबर लिखना अनिवार्य है। सब-रजिस्ट्रार 1 और 2 मनिंद्र सिद्धू ने बताया कि सरकार की तरफ से तिमाही रिपोर्ट तैयार करने के लिए भेजे गए प्रोफार्मे में पैन कार्ड नंबर के कॉलम हैं, जिसमें पैन कार्ड नंबर भरा जाना है। मगर कई वसीकों (रजिस्ट्रियों) में पैन कार्ड नंबर नहीं लिखे जाते जिसकी वजह से तिमाही रिपोर्ट तैयार करने में काफी दिक्कत पेश आती है इसलिए समूह वसीका नवीसों और एडवोकेट्स को हिदायत जारी की जा रही है कि वह 5 लाख या उससे अधिक राशि के वसीके पर पैन कार्ड नंबर पहले पन्ने पर लिखे जाएं और वसीके के साथ पैन कार्ड की फोटोकॉपी लगाई जाए ताकि तिमाही और सालाना रिपोर्ट तैयार करते समय कोई दिक्कत पेश न आए। 



अगर पैन कार्ड नंबर न लिखा गया तो वसीका रजिस्टर नहीं किया जाएगा और संबंधित वसीका नवीस और एडवोकेट के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए डी.सी. को लिख दिया जाएगा, जिसकी सारी जिम्मेदारी उनकी ही होगी। मनिंद्र सिद्धू ने कहा कि इसके अलावा कई वसीका नवीस और वकील राजस्व रिकार्ड को अनदेखा करते हुए वसीके में दर्ज रकबा लाल लकीर के अंदर लिख देते हैं और वसीका रजिस्टर्ड करने के लिए भेज देते हैं, जिसके साथ संबंधित पार्टियां परेशान होती हैं। सिद्धू ने कहा कि हलका पटवारी की रिपोर्ट आपके रजिस्ट्रेशन आवेदन के साथ लगी हो, अन्यथा आपकी रजिस्ट्री नहीं हो पाएगी। इसके साथ ही उन्होंने आम जनता से अपील करते हुए कहा कि वह अपने-अपने ओरिजनल आई.डी. प्रूफ रजिस्ट्रेशन आवेदन प्रस्तुत करते समय साथ लेकर आएं, क्योंकि कई बार वसीका नवीस केवल फोटोकॉपी लगा देते हैं, मगर आवेदकों के पास ओरिजनल प्रूफ मौजूद नहीं होता है, जिससे उसकी सत्यता स्थापित करने में मुश्किल होती है।