BREAKING NEWS

image caption:

छह महिलाओं को ऑपरेशन के लिए बेहोश कर डॉक्टर चला गया ,बिगड़ी तबीयत

Date : 2018-11-01 04:00:00 PM

टीकमगढ़ के पलेरा में  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में बुधवार को नसबंदी शिविर में बड़ी संख्या में महिलाएं पहुंचीं। शिविर में छतरपुर से आए रिटायर्ड सर्जन केके चतुर्वेदी को बुलाया गया। उन्होंने छह महिलाओं को ऑपरेशन के लिए बेहोशी के इंजेक्शन लगा दिए।इंजेक्शन के बाद महिलाएं बेहोश हो गईं। इसी बीच रिटायर्ड सर्जन चतुर्वेदी का अटेंडर को लेकर स्थानीय डॉक्टर महेंद्र कोरी से विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ा कि रिटायर्ड सर्जन चतुर्वेदी महिलाओं को बेहोशी की हालत में छोड़कर चले गए। आॅपरेशन के लिए कक्ष में छह महिलाएं पहुंचीं उन्हें इंजेक्शन भी लगा दिए गए, लेकिन इसी बीच यहां पर पदस्थ डॉ. महेंद्र कोरी एवं सर्जन केके चतुर्वेदी के बीच कहासुनी हो गई और इसी को लेकर यहां से महिलाओं के बिना आॅपरेशन किए ही सर्जन चतुर्वेदी यहां से चले गए। 



उधर, इंजेक्शन लगाने के बाद महिलाओं की हालत बिगड़ गई और उन्हें उल्टी, चक्कर आदि आने लगे।यहां पर नसबंदी के लिए भर्ती हुई महिलाओं में रोशनी यादव पत्नी शिवदयाल यादव निवासी भगवंतनगर, रचना अहिरवार पत्नी नरेन्द्र अहिरवार निवासी भगवंतनगर, लाड़कुंवर अहिरवार पत्नी महेश अहिरवार निवासी मगरई, रामसखी पाल पत्नी योगेन्द्र पाल निवासी सिमराखुर्द, ममता पत्नी गोविन्दी आदिवासी निवासी सिमराखुर्द एवं कस्तूरी कुशवाहा पत्नी दस्सी कुशवाहा निवासी सिमराखुर्द शामिल हैं, जिनकी इंजेक्शन लगने के बाद हालत खराब हो गई। बाद में उन्हें इलाज दिया गया। मैं दूसरे मरीज को ओपीडी में देख रहा था। इसी बीच सर्जन डॉ. चतुर्वेदी ने अर्जेन्ट में एक डॉक्टर की मांग की। मैँ ओपीडी में अकेला था, अतः मेरे द्वारा उनके कुछ देर रुकने को कहा, लेकिन वह चले गए।  -डॉ. महेंद्र कोरी, पलेरा