BREAKING NEWS

image caption:

पटाखों की रिटेल बिक्री में पूलिंग की खुली पोल

Date : 2018-10-31 04:33:00 PM

जालंधर//(31-10-2018)-पटाखों की रिटेल बिक्री में पूलिंग की पोल खुली को पुलिस प्रशासन ने रणनीति बदल दी, अब पटाखों के लिए तैयार की गईं पाच-पाच दुकानों के ब्लॉक से पार्टिशन हट जाएंगे, उनकी जगह पूलिंग करने वालों की टेबल सज जाएंगी। पूलिंग पर देर शाम तक मचे घमासान के चलते फैसला नहीं हो पाया था कि कौन किसके साथ पूल करेगा, जिस कारण न तो दुकानें नए सिरे से बन पाई थीं और न ही देर शाम तक किसी को लाइसेंस जारी हो सका था। उधर, पुलिस प्रशासन पहले से बन चुकीं दुकानों को यथास्थिति में रखने को लेकर भारी राजनीतिक दबाव में दिख रहा है।साल 2016 के मुकाबले 20 प्रतिशत लाइसेंस ही जारी करने के पीछे हाईकोर्ट की मंशा पटाखों की बिक्री को घटाने की थी। ताकि प्रदूषण कम हो। पुलिस प्रशासन इस मंशा पर खरा उतरने के बजाय आकड़ों में उलझा है।



 कारोबारी सूत्रों का कहना है कि इस बार लगभग 30 करोड़ रुपये से ज्यादा पटाखे शहर में स्टोर हो चुके हैं। एक करोड़ के पटाखे तो दशहरा तक बिक चुके हैं।रियाजपुरा में पटाखे की अवैध फैक्ट्री में आग लगने से दो लोगों की मौत के मामले में गिरफ्तार गुरदीप के पिता खजान सिंह ने अंदरखाते चल रही पूलिंग की मंगलवार को पोल खोल दी। पटाखा रिटेल विक्त्रेता यूनियन के पदाधिकारी खजान सिंह पर दबाव बना रहे थे कि वह चार-पाच लोगों को अपने लाइसेंस के साथ पूल कर लें, लेकिन खजान सिंह ने इंकार कर दिया, जिससे यूनियन उससे खफा है।खजान सिंह ने दैनिक जागरण को बताया कि वह किसी कीमत पर पूल नहीं करेगा। सूत्रों का कहना है कि इस बार यूनियन से संबंधित 10 लोगों को ही लाइसेंस मिले हैं। 10 लाइसेंस गैर यूनियन कारोबारियों के निकले हैं। यूनियन हर लाइसेंसधारक पर चार से पाच कारोबारियों को एडजस्ट करने के लिए दबाव बना रही है। एक लाइसेंस होल्डर ने बताया कि यूनियन के पदाधिकारी नाजायज रूप से दबाव बना रहे हैं, वे यूनियन के अनुसार नहीं बल्कि अपनी सोच के व्यक्ति के साथ ही पूल करेंगे।


काग्रेस से संबंधित पटाखा विक्रेता यूनियन के नेता राना हर्षित ने भी अप्रत्यक्ष रूप से पूड्क्षलग की बात स्वीकार करते हुए मान लिया कि कारोबार तो सभी को करना है, अगर व्यापारी आपस में मिलकर जुलकर कारोबार कर लेते हैं तो इसमें क्या परेशानी हैं।ब‌र्ल्टन पार्क में मंगलवार दोपहर लगभग 12.30 बजे एसीपी नवनीत माहल ने पटाखे बेचने के लिए बनाईं दुकानों को नियमों के विरुद्ध बताते हुए उन्हें ध्वस्त करने के साथ ही नए सिरे से दुकानें बनाने के निर्देश दिए तो लाइसेंसधारकों से ज्यादा पूल करने की जुगत में लगे गैर लाइसेंसधारकों को परेशानी हुई। वे सामूहिक रूप से काग्रेस के पूर्व मंत्री अवतार हैनरी के ऑफिस में पहुंचे। पूर्व मंत्री ने उन्हें ये कहते हुए आशीर्वाद दे दिया कि ब‌र्ल्टन पार्क में बन चुकीं दुकानों में अपना कारोबार शुरू करें, जो दुकानें बन चुकी हैं, उन्हें कोई नहीं तोड़ सकता है। पूर्व मंत्री का आशीर्वाद पाकर वापस आतिशबाजी कारोबारी दोपहर लगभग डेढ़ बजे स्टेडियम पहुंचे, वहा एडीसीपी परड्क्षमदर ड्क्षसह भंडाल व जिला प्रशासन की ओर से तहसीलदार करणदीप सिंह भुल्लर भी पहुंच चुके थे। भंडाल ने लाइसेंस के ड्रा में नाम आने वालों को स्पष्ट रूप से चेतावनी दे दी कि वे पहले दुकानों को नियमानुसार बनवाएं, नगर निगम से एनओसी मिलने के बाद ही वे उन्हें लाइसेंस जारी करेंगे।