BREAKING NEWS

image caption:

हाई कोर्ट के आदेशों को हवा में उड़ा कर निकाला बीच का रास्ता

Date : 2018-10-30 03:25:00 PM

जालंधर//(रवि गिल,जीवेश शेर गिल)-जालंधर के पुलिस व निगम कमिश्नर और डिप्टी कमिश्नर ने पटाखा बिक्री को लेकर हाई कोर्ट के आदेशों को हवा में उड़ा कर बीच का रास्ता निकाल लिया है।हाई कोर्ट के स्पष्ट आदेश हैं लाइसेंसशुदा व्यापारियों को पटाखा बिक्री की इजाजत दी जाए,आप को बता दे पटाखा बिक्री को लेकर सोमवार को ड्रा निकाला गया। 20 व्यापारियों के नाम पर ड्रा निकला।जब मौके पर ब‌र्ल्टन पार्क का दौरा किया गया तो अधिकारियों के बीच के रास्ते की पोल खुल गई। एक दुकान के अंदर पांच से छह दुकानें बनाई गई हैं।इस सारे खेल में पुलिस के एक बड़े अधिकारी ने पटाखा विक्रेताओं को एक करके पूल करवाने में खासी भूमिका अदा की है। डीसी चूंकि सीधे तौर पर इस मामले में हस्तक्षेप नहीं कर सकते हैं इसलिए पुलिस ने कमिश्नरेट की पावर की आड़ में यह खेल खेला गया है।राजनीतिक दवाब में पहले ही शहर में आतिशबाजी विक्रेताओं के तीनों गुटों ने आपस में पूल कर लिया था, 


इस बात की जानकारी पुलिस कमिश्नरेट व निगम अधिकारियों को थी, यही वजह थी कि लाइसेंस जारी होने से पहले ही ब‌र्ल्टन पार्क में पूल में शामिल होने वाले सभी दुकानदारों को एडजस्ट करने के लिए अस्थायी दुकानों का निर्माण उसी हिसाब से शुरू करा दिया था। साल 2016 में दुकानों का साइज 10 फीट चौड़ा 20 फीट लंबा रखा गया था। इस बार दुकानों का साइज 10 गुणा 50 बनाकर उसे पांच भागों में बांट दिया गया है, ताकि एक लाइसेंस पर पांच कारोबारी अपने कारोबार को अंजाम दे सकें।डीसीपी पीएस परमार के अनुसार 20 लाइसेंस ही जारी किए गए हैं, इसके अलावा कोई भी व्यक्ति पटाखा बिक्री बेचता पकड़ा गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। हर दुकान के बीच 3-3 फीट का अंतर होगा, जब उनसे पूछा गया कि क्या ये 20 लाइसेंसों के नाम पर बाकी कारोबारी पूल करके आतिशबाजी की बिक्री करेंगे, इस पर डीसीपी ने कहा कि बाहर कोई व्यक्ति अगर पार्टनरशिप कर लेता है, तो इसमें कुछ नहीं हो सकता है। एडीसीपी पर¨मदर ¨सह भंडाल का कहना है कि उनकी जानकारी में यह मामला देर रात में आया है। हम लाइसेंस दुकानों का फिजिकल वैरीफेकशन के बाद ही लाइसेंस जारी करेंगे।