BREAKING NEWS

image caption:

मसाज पार्लरों की आड़ में स्तर पर चल रहा है जिस्मफरोशी का धंधा बड़े

Date : 2018-10-29 12:43:00 PM

जालंधर//(29-10-2018)-महानगर में मसाज पार्लरों की आड़ में जिस्मफरोशी का धंधा बड़े स्तर पर चल रहा है। पुलिस की कार्रवाई न होती देख महानगर में कई लोग इस धंधे में उतर रहे हैं, क्योंकि यह आसानी से पैसे कमाने का जरिया बन गया है। जानकारी के अनुसार महानगर में ऐसे कई मसाज सैंटर भी हैं जहां विदेशों से बुलाई युवतियों को ग्राहकों के सामने परोसा जा रहा है। पुलिस प्रशासन इस सारे मामले में ‘धृतराष्ट्र’ बना हुआ है। इसके अलावा नॉर्थ ईस्ट की लड़कियों को भी इस धंधे में उतारा का रहा है। नॉर्थ-ईस्ट में बेरोजगारी है, इसलिए यहां की लड़कियां उनके लिए ईजी टारगेट होती हैं। जानकारी के अनुसार सैंटर में काम करने वाली लड़कियों को 8 से 10 हजार प्रति माह वेतन दिया जाता है। 

युवतियों को यह कहकर पार्लर ज्वाइन कराया जाता है कि उन्हें अ‘छी सैलरी मिलेगी और धीरे-धीरे पैसे का लालच देकर उन्हें देह व्यापार की दलदल में धकेल दिया जाता है और वाहर बात लीक होने पर जान से मारने की धमकियां भी दी जाती हैं।ग्राहकों को लुभाने के लिए  व्हाट्स एप ग्रुप बनाया जाता है जिसमें युवतियों की फोटो डाली जाती और यह वायदा किया जाता है कि मसाज पार्लर में आने पर मसाज के अलावा उन्हें सैक्सुअल फेवर भी मिलेंगे। ग्राहकों की भीड़ को बढ़ाने के लिए मसाज के पैकेज भी बनाए जाते हैं। मसाज पार्लर में काम करने वाले एक कर्मचारी से जब पूछा गया कि गैर-कानूनी काम करने के बावजूद पार्लर संचालक पर कोई कार्रवाई नहीं होती तो उसने अपना नाम न छापने की शर्त पर बताया कि वह जालंधर के ऐसे 5 मसाज सैंटरों में काम कर चुका है जहां देह व्यापार हो रहा है। हर सैंटर का संचालक उन्हें यह हिम्मत देता है कि उनका राजनीति में अ‘छा-खासा दबदबा है और उन पर कोई कार्रवाई नहीं कर सकता।

 पुलिस भी राजनीतिक पहुंच के करते उन पर हाथ डालने कतराते हैं। गौरतलब है कि पुलिस द्वारा मॉडल टाऊन में एक मसाज सैंटर पर रेड की गई थी जिसके बाद वहां काम करने वाली युवतियों को पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया था। पुलिस की इस कार्रवाई के बाद मसाज पार्लर की आड़ में देह व्यापार चलाने वाले व्यक्ति कुछ समय के लिए सहम गए थे और कुछ समय के लिए उनका धंधा बंद हो गया था लेकिन कुछ समय बाद उनका डर खत्म हो गया और अब शहर में देह व्यापार को अंजाम देने वाले ऐसे सैंटरों की संख्या 25 के करीब हो गई है।मसाज पार्लरों के अंदर 10 के करीब वुडन रूम बनाए जाते हैं जहां लाइट बिल्कुल डिम होती है। रिसैप्शन पर मसाज की डीलिंग होने के बाद कर्मचारी ग्राहक के साथ यहां आता है और सैक्सुअल फेवर के बारे में पूछ जाता है, जिसके बाद उसकी अलग कीमत वसूली जाती है। जानकारी के अनुसार मसाज पार्लर में जिस किसी कर्मचारी के पास ग्राहकों के अधिक कॉन्टैक्ट होते हैं, उसे ही मैनेजर बनाया जाता है और मोटी सैलरी के साथ यह लालच भी दिया जाता है कि हर ग्राहक के पीछे उसे अ‘छा कमीशन भी दिया जाएगा। मैनेजर ही ग्राहकों को युवतियां दिखाता है मसाज के लिए लड़की चूज करने को कहता है। सारी डीलिंग मैनेजर के जरिए होती है। किसी बड़ी कंपनी की तरह मैनेजर द्वारा ग्राहकों को कॉल की जाती है कि वह अगली बार कब विजिट करेगा।