BREAKING NEWS

image caption:

IB पर आलोक वर्मा नेलगाया जासूसी का आरोप

Date : 2018-10-25 12:02:00 PM

नई दिल्ली//(25-10-2018)-  सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के घर के बाहर 4 संदिग्धों के पकड़े जाने के बाद उन्होंने खुद की जासूसी का आरोप लगाया है। आलोक वर्मा ने आरोप लगाया है कि इंटेलीजेंस ब्यूरो उनकी जासूसी करवा रही है। इसी के साथ कांग्रेस भी इस मामले में हमलावर हो गई है और उसने भी केंद्र सरकार पर वर्मा की जासूसी कराए जाने का आरोप लगाया है।आज सुबह आलोक वर्मा के घर के बाहर से 4 लोगों को पकड़ा गया है। आलोक वर्मा के निजी सुरक्षागार्ड उन्हें पकड़कर आवास के अंदर ले गए और पूछताछ शुरू की। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, दिल्ली पुलिस ने इन सभी को हिरासत में ले लिया है। सभी के पास IB (Intelligence Bureau) के कार्ड मौजूद थे।आलोक वर्मा के सुरक्षागार्ड के मुताबिक, ये सभी आलोक वर्मा के घर के बाहर संदिग्ध गतिविधि कर रहे थे। इन लोगों के पास से कई फोन भी बरामद किए गए हैं, इनके पास जो कार्ड मिले हैं उनमें आईबी में इनकी क्या पोस्ट है उसकी जानकारी दी गई है। बताया जा रहा है कि ये चारों लोग बीती रात ही दो गाड़ियों से आलोक वर्मा के घर के बाहर पहुंचे थे।


आपको बता दें कि सीबीआई में सामने आए घूसकांड के बाद सीवीसी की सिफारिश पर केंद्र सरकार ने आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना को कुछ समय के लिए छुट्टी पर भेज दिया है, इसी के साथ इस मामले में जांच कर रहे सभी अधिकारियों का भी ट्रांसफर कर दिया है। आलोक वर्मा ने खुद को छुट्टी पर भेजे जाने के खिलाफ सरकार के इस फैसले पर सवाल उठाते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दायर की है, जिसपर शुक्रवार को सुनवाई होगी।गौरतलब है कि CBI ने राकेश अस्थाना (स्पेशल डायरेक्टर) और कई अन्य के खिलाफ कथित रूप से मीट कारोबारी मोइन कुरैशी की जांच से जुड़े सतीश साना नाम के व्यक्ति के मामले को रफा-दफा करने के लिए घूस लेने के आरोप में FIR दर्ज की थी। इसके एकदिन बाद डीएसपी देवेंद्र कुमार को गिरफ्तार किया गया, जिसको राकेश अस्थाना का करीबी बताया जा रहा है। इस गिरफ्तारी के बाद मंगलवार को सीबीआई ने अस्थाना पर उगाही और फर्जीवाड़े का मामला भी दर्ज किया।सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच छिड़ी इस जंग के बीच, केंद्र ने सतर्कता आयोग की सिफारिश पर दोनों अधिकारियों को छु्ट्टी पर भेज दिया और जॉइंट डायरेक्टर नागेश्वर राव को सीबीआई का अंतरिम निदेशक बना दिया गया। चार्ज लेने के साथ ही नागेश्वर राव ने मामले से जुड़े 13 अन्य अधिकारियों का ट्रांसफर कर दिया।