BREAKING NEWS

image caption:

बेटी के शव को कंधे पर लाद 8 किमी पैदल चला पिता,पोस्टमॉर्टम के लिए

Date : 2018-10-19 11:37:00 AM

 ओडिशा से इस समय एक ऐसी तस्वीर सामने आ रही है जो वाकई दिल को झकझोर देने वाली है। ओडिशा में चक्रवात प्रभावित गजपति जिले से एक ऐसी तस्वीर सामने आई है, जिसे देखकर व्यवस्थाओं से यकीन उठना लाजमी है। दरअसल, गुरुवार को एक पिता अपने कंधे पर अपनी सात वर्षीय बेटी का शव लादकर आठ किलोमीटर की दूरी को पैदल तय करते हुए पोस्टमॉर्टम कराने पहुंचा था। शख्स की बेटी की मौत भूस्खलन की वजह से हो गई थी।स्थानीय समाचार चैनलों ने घटना की तस्वीरें दिखाना शुरू किया तो लोगों के जेहन में एक बार फिर 2016 की वह घटना जिंदा हो उठी, जिसमें एक शख्स अपनी पत्नी का शव कंधे पर लादकर 10 किलोमीटर दूर पैदल चलते हुए कालाहांडी जिले में स्थित भवानीपटना गवर्नमेंट हॉस्पिटल पहुंचा था। बता दें कि यह घटना लक्ष्मीपुर ग्राम पंचायत के अंतर्गत आने वाले अतंकपुर गांव में घटित हुई। मुकुंद डोरा ने अपनी बेटी शव को बोरे में बांधा, कंधे पर लादा और पोस्टमॉर्टम कराने के लिए निकल पड़ा। अधिकारियों का कहना है, 'तितली चक्रवात के बाद बबीता गुम हो गई थी। राज्य सरकार ने बुधवार को स्थानीय पंचायत इकाई से मिली सूचना के आधार पर उसे मृत घोषित कर दिया था। हाल में उसका शव भी बरामद हुआ।' मृतक लड़की के पिता का कहना है, 'उनकी बेटी 11 अक्टूबर से गायब थी।


'विशेष राहत आयुक्त कार्यालय में एक अधिकारी ने बताया कि बबीता भारी बारिश की वजह से आई बाढ़ में बह गई थी। मृतक लड़की के पिता का कहना है, 'हमें अपनी बेटी का शव बुधवार को एक नाले के पास से मिला। पुलिस को इस बात की जानकारी दी गई। वे आज सुबह हमारे गांव आए, शव की तस्वीरें खींची और चले गए।' डोरा ने बताया कि पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए अस्पताल ले जाने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की। यही नहीं, उन्होंने डोरा से कहा कि वह शव को अस्पताल लेकर पहुंचें। मुकुंद डोरा बताते हैं, 'मैं एक गरीब आदमी हूं और गांव से अस्पताल ले जाने के लिए किसी गाड़ी का खर्च नहीं उठा सकता। इसके साथ ही मेरे गांव की सड़क भी चक्रवात की वजह से खराब हो गई है, जिसके चलते मैंने शव को बोरे में रखा और इसे अपने कंधे पर लादकर ले जाने लगा। यह देखकर पुलिस ने एक ऑटो रिक्शा की व्यवस्था की।'  घटना के बाद गजपति के जिलाधिकारी अनुपम शाह ने बताया कि वह घटना की जानकारी ले रहे हैं। कलेक्टर ने गुरुवार शाम डोरा को उनकी बेटी की मौत के मामले में दस लाख रुपये मुआवजे का चेक सौंपा है।