BREAKING NEWS

image caption:

3 तलाक मिली राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मंजूरी

Date : 2018-09-20 12:08:00 PM

मुस्लिम महिलाओं के साथ 3 तलाक से जुड़े अपराधों से मुक्ति दिलाने के लिए केंद्र सरकार की कैबिनेट ने कल ऐतिहासिक फैसला लेते हुए तीन तलाक से संबंधित अध्यादेश को पारित कर दिया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अध्यादेश पर हस्ताक्षर कर दिए। इसके साथ ही यह कानून लागू हो गया। केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने फैसले की जानकारी देते हुए बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी ट्रिपल तलाक के मामले सामने आ रहे थे, इसलिए अध्यादेश लाने की जरूरत पड़ी।ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर मोदी सरकार काफी समय से कोशिश कर रही है, हालांकि, कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों के विरोध के बाद इस बिल में संशोधन किया गया था। 

संसद से बिल पारित होने से पहले 6 महीने तक अध्यादेश से काम चलेगा। बता दें ट्रिपल तलाक बिल को संसद के दोनों सदनों में पास कराने में असफल रहने पर केंद्र सरकार ने अध्यादेश का रास्ता चुना है। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी जानकारी दी।
गौरतलब है की मानसून सत्र के दौरान राज्यसभा में आखिरी दिन जो बिल आया था उसे ही अध्यादेश के ज़रिए कानून बनाने को मंजूरी मिली गई है। पहले भी सरकार तीन तलाक पर अध्यादेश ही लाई थी जिसे लोकसभा से तो पास करवा लिया गया लेकिन राज्यसभा में ये अटक गया। वही इस बिल के अनुसार तीन तलाक के मामले को गैर जमानती अपराध तो माना गया है लेकिन संशोधन के हिसाब से अब मजिस्ट्रेट को जमानत देने का अधिकार होगा। इस मामले में पीड़िता, परिजन और खून के रिश्तेदार ही केस दर्ज करा सकते हैं।