भारतीय टीम एशिया कप-2018 में मंगलवार यानी आज अपने अभियान की शुरुआत हॉन्गकॉन्ग के खिलाफ करेगी। भारतीय कप्तान रोहित शर्मा इस मैच से ज्यादा अपनी टीम के कॉम्बिनेशन को लेकर फिक्रमंद हैं। रोहित ने सोमवार को माना कि टीम का मध्यक्रम अब भी पूरी तरह व्यवस्थित नहीं है। ऐसे में उनका लक्ष्य एशिया कप के दौरान चौथे और छठे नंबर के बल्लेबाज की पहचान करना होगा। बात दें कि बुधवार को पाकिस्तान से भारत की भिड़ंत है।
पिछले एक साल के दौरान भारत को मध्यक्रम के बल्लेबाजों के लचर प्रदर्शन के कारण परेशानी उठानी पड़ी है तथा इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज के दौरान यह समस्या खुलकर सामने आई। रोहित ने स्पष्ट किया कि मनीष पांडे, केदार जाधव और अंबति रायडू जैसे बल्लेबाजों के बीच मध्यक्रम के स्थानों के लिए मुकाबला है।
उन्होंने कहा, कई स्थानों को भरा जाना है जैसे कि तीसरे, चौथे और छठे नंबर के बल्लेबाज. इन सभी खिलाड़ियों (केदार, मनीष, रायडू) की निगाहें इन स्थान पर होंगी। हम इस सीरीज में अधिक से अधिक खिलाड़ियों को मौका देना चाहते हैं। इस टूर्नामेंट में हमें चौथे और छठे नंबर के बल्लेबाज को तय करना होगा।
रोहित ने कहा, 'ये दोनों ही टीम के अहम अंग हैं। रायडू पहले इंग्लैंड जाने वाली टीम का हिस्सा था और इसी तरह से केदार भी चोटिल होने से पहले टीम का अहम हिस्सा था। दुर्भाग्य से वे पिछले कुछ समय से नहीं खेल पाए, लेकिन खुशी है कि उन दोनों की वापसी हुई है। मुझे उम्मीद है कि वे भारत के लिए मैच विजेता बनेंगे।
रोहित ने कहा कि अच्छा प्रदर्शन करने वालों को लंबी अवधि तक मौका मिलेगा उन्होंने कहा, मैंने अभी इस बारे में नहीं सोचा है। हम यह देखना चाहते हैं कि प्रत्येक खिलाड़ी भिन्न परिस्थितियों में कैसा खेलता है। इसके अलावा हम अधिक से अधिक खिलाड़ियों को मौका देना चाहते हैं, लेकिन लगातार अच्छा प्रदर्शन करने वालों को अधिक मौके मिलेंगे।